नपुंसकता मैं एयक पुरश क्या करे ?

Spread the love

इस समय पूरी दुनिया में नपुंसकता बढ़ रही है, युवा इससे इतने परेशान हैं कि मानसिक रूप से बीमार हो जाते हैं। किशोर बीमारी को बढ़ाने के लिए तरह-तरह की दवाओं का इस्तेमाल करते हैं। इस प्रकार की दवाएं अब गली में बैठे झोला छाप डॉक्टरों के पास आसानी से उपलब्ध हैं।

इस बीमारी के मरीज शर्म के मारे डॉक्टर के पास जाने से बचते हैं और जब बीमारी अपने चरम पर पहुंच जाती है या उनकी शादी हो जाती है तो उन्हें डॉक्टर के पास जाने की जरूरत होती है।

नपुंसकता क्या है? और ऐसा क्यों होता है? मैंने इसके बारे में विस्तार से एक लेख लिखा है, आप वहां जा सकते हैं और उस लेख को पढ़ सकते हैं

इस लेख में हम एक ऐसे नुस्खे के बारे में बात करने जा रहे हैं जो नपुंसकता में बहुत उपयोगी है और उपयोग करने में भी बहुत सुरक्षित है यह नुस्खा बनाया गया है।

यहां आप इस नुस्खे के बारे में पढ़ेंगे कि इसे कैसे बनाया जाता है, इसे कैसे इस्तेमाल किया जाता है।

अकर करा का तेल कैसे बनता है

इसको बनाने के लिए हमारे पास जैतून का तेल और अकर करा चाहिए।

  • अकर करा 100 ग्राम
  • जैतून का तेल 250 मिली

दोस्तों सबसे पहले अकर करा को लेकर मिक्सी में अच्छी तरह से पीस लीजिये, अब अकर करा को लेकर 500 मिलीलीटर पानी में भिगो दीजिये. अकर करा को लगभग बारह घंटे तक पानी में भिगोना होता है।

12 घंटे के बाद अकर करा को और इस पानी के गैस के चूल्हे पर रख दीजिये, उबाल आने पर अकर करा और पानी को चलाते रहिये ताकि यह बर्तन में न चिपके।

दोस्तों जब बर्तन में करीब 100 मिलीलीटर पानी रह जाए तो उसमें जैतून का तेल डाल दें। इन दोनों को बर्तन में हिलाते रहें, हिलाने का एकमात्र उद्देश्य अकर करा को बर्तन में चिपकने से रोकना है।

जब आपको लगे कि अकर करा तेल में पूरी तरह से पक गया है तो गैस बंद कर दें। जब तेल थोड़ा ठंडा हो जाए तो अकर करा को छानकर तेल से अलग कर लें।

एयसा करने का सबसे अच्छा तरीका है कि बर्तन के ऊपर एक पतला कपड़ा रखें और उस पर ऊपर से तेल डालें और फिर उसे अच्छी तरह से निचोड़ लें, निचोडने से तेल बर्तन में समा जाएगा और कपड़े में सिर्फ अकर करा रह जाएगा।

इस तरह से पूरे तेल को छान कर अलग कर लें और इस तेल को कांच की बोतल में भरकर रख लें. यह जमा हुआ तेल असल अकर करा का तेल है.

अकर करा का तेल का  उपयोग कैसे करें

इस तेल की लिंग पर मालिश की जाती है इस तेल की मालिश बहुत हल्के हाथ से की जाती है और एक चीज़ का खयाल रखा जाता है कि लिंग की निचली सतह पर इस तेल की मालिश न की जाए।

अकर करा के तेल का उपयोग कौन कर सकता है?

दोस्तों यह तेल नपुंसकता के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। मगर यहाँ पर हमको एक चीज़ का जानना बहुत ज्यादा जरूरी हो जाता है कि नपुंसकता आखिर किस चीज़ की वजह से होई है।

वो मरीज जो ज्यादा संभव करते हैं उनका लिंक अक्सर ढीला और कमजोर हो जाता है उन लोगों के लिए इस तेल का इस्तेमाल बहुत ज्यादा उपयोगी सिद्ध होता है। इन मरीजों को इस तेल की मालिश तकरीबन 15-20 दिन तक कराई जाती है मगर अक्सर मरीजों को ये 40 दिन तक करना उपयोगी माना जाता है।

उर्दू मैं भी परहए 

दोस्तों अक्सर लोग अपने लिंग को सख्त करने के लिए दवाओं का इस्तेमाल करते हैं और कभी कभी वो इन दवाओं का सेवन लंबे समय तक करते हैं इसके नतीजे में उनका लिंक बिलकुल ढीला हो जाता है, और एक टाइम ऐसा आता है कि बगैर दवा के उनका लिंग सख्त नहीं होता है और वो नपुंसकता का शिकार हो जाता है। जैसे मरीजों को इस तेल का इस्तेमाल करना बहुत ज्यादा उपयोगी होता है।

परहेज  

इस तेल के उपयोग के दौरान मरीज को 40 दिन तक संबोग नहीं करना होता है तो इस बात का खास खयाल रखें।

ये तेल कहाँ से उपलब्ध होगा

दोस्तों क्योंकि हमने ऊपर इस तेल को बनाने की विधि बताई है, आप चाहें तो इस तेल को इस तरह से जड़ी-बूटी लाकर अपने घर में बना सकते हैं, लेकिन अगर आपके पास इसे बनाने का समय नहीं है, तो नीचे आप इसे घर पर खरीद सकते हैं. लास्ट लिंक पर क्लिक करके यह तेल आपके घर पहुंच जाएगा।

Akarkarha Oil

अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो कृपा करके निजी कमेंट बॉक्स में जाकर अपना कमेंट लिख कर बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *